Tuesday, June 12, 2018

ये कहानी है दिए की और तूफान की- यूनुस ख़ान


मैंने लोकमत समाचार में सिनेमा पर अपना कॉलम शुरू किया है। ये है उसकी ताज़ा कड़ी। जो 11 जून को प्रकाशित हुई है। 



ईरान कई मामलों में मुझे भारत जैसा लगता है। खासकर उनका समाज।
 यही वजह है कि ईरानी फिल्‍में अपनी-सी लगती हैं। भारत में विश्‍व सिनेमा के कद्रदानों के बीच उनकी लोकप्रियता का कारण भी यही है। ईरान ने कई विश्‍व-स्‍तरीय फिल्‍मकार दिये हैं जो अपने देश की अस्थिरता और बंदिशों के बीच भी अपनी तरह का सिनेमा बनाते और उसे दुनिया में पहुंचाते रहे हैं। अब्‍बास किरोस्‍तामी, ज़फर पनाही, असग़र फरहादी, मोहसिन मख़मलबाफ़, समीरा मख़मलबाफ़, तहमीन मिलानी, शाहाब हुसैनी, बहमान ग़ोदादी जैसे फिल्‍मकारों की एक लंबी फेहरिस्‍त है, जिनकी फिल्‍में देखना एक अद्भुत अनुभव होता है। 

ईरानी सिनेमा में संघर्ष करती औरतें हैं। कभी शोषण करते तो कभी बेचारे मर्द हैं। जंग है, अभाव हैं। आधुनिक जीवन के तनाव और दबाव हैं। कट्टरता है। वो सब है जो हमारे देश में है। और इसलिए ईरानी जीवन हमें अपना-सा लगता है। हो सकता है कि पश्चिम उसे अचंभे की तरह देखता हो पर बीते चार दशकों में जितनी तेज़ी से ईरानी सिनेमा ने दुनिया भर में फिल्‍म समारोहों और पुरस्कारों में अपना असर दिखाया है, वो बहुत कुछ साबित करता है।

बीते बरस मशहूर ईरानी फिल्‍म निर्देशक माजिद मजीदी ने भारत में एक फिल्‍म बनाई। भारतीय कलाकारों के साथ। हिंदी में। और ऐसा पहली बार हुआ। beyond the clouds” कई वजहों से सिनेमा के इतिहास में याद रखी जायेगी।  ईशान खट्टर और मालविका मोहनन इस फिल्‍म के सितारे हैं। बेमिसाल निर्देशक गौतम घोष ने भी इस फिल्‍म में अभिनय किया है। कहानी मुंबई के इर्दगिर्द बुनी गयी है। फिल्‍म को मिला जुला रिस्‍पॉन्‍स मिला है। कई लोगों ने इसकी बहुत ज्‍यादा तारीफ की। कुछ आलोचनाएं भी सामने आईं।

माजिद मजीदी इससे पहले मुहम्‍मद, सॉन्‍ग ऑफ स्‍पैरोज़, द विलो ट्री, बरान, द कलर ऑफ पैराडाइज़, चिल्‍ड्रन ऑफ हैवन जैसी नायाब फिल्‍में बना चुके हैं। और सारी दुनिया में सराहे जा चुके हैं। उनकी फिल्‍में खोज-खोजकर देखी जाती हैं। 

एक तरफ माजिद मजीदी का सिनेमा है, दूसरी तरफ भारत का पेशेवर सिनेमा है और उसी के बीच लगातार आ रही हैं हॉलीवुड के फ्रैंचाईज़ वाली फिल्‍में। इस बरस हॉलीवुड की जो विशाल फिल्‍में रिलीज़ हुई हैं उनमें ब्‍लैक पैंथर और avengers infinity war प्रमुख हैं। हाल ही में जुरासिक वर्ल्‍ड: फॉलन किंगडम आई है। इसके बाद Incredibles 2 और मिशन इंपॉसिबल 6 जल्‍दी रिलीज को तैयार हैं।

avengers infinity war  हॉलीवुड के मार्वल कॉमिक्‍स और स्‍टूडियो का ये फ्रेंचाइज़ पूंजीवादी सिनेमा की ऊँचाई है। तकरीबन 2008 में फिल्‍म आइरन मैनसे एवेन्‍जर्स ने अपनी यात्रा शुरू की। अब तक इस सीरीज़ में कुल 19 फिल्‍में आई हैं। और ये होमवर्क कभी करना चाहिए कि इनकी लागत कितनी थी और सारी दुनिया में इन फिल्‍मों ने कितनी कमाई की। स्‍पाइडरमैन द होमकमिंगकी दुनिया भर में कमाई थी 880 मिलियन डॉलर। इंटरनेट से मैंने हिसाब लगाया तो रूपयों में आज के मूल्‍य के हिसाब से कमाई बैठती है इतनी 58,62,56,00,000.00. ये तकरीबन 58 अरब की कमाई है। एक फिल्‍म की। 

बस अंदाजा लगा लीजिए कि हम जो सीक्रेट सुपरस्‍टारकी एक हजार करोड़ की कमाई से कूदते फिरते हैंइस महा विराट सिनेमा के सामने कित्‍ते से हैं। बीते बरस आई ब्‍लैक पैंथरकी कुल कमाई थी 8,84,71,36,00,00,000.00 रूपए।
इससे आगे मुझे कुछ नहीं कहना है।

Thursday, August 25, 2016

खुश्‍बू जैसे लोग मिले अफ़साने में- शुभ्रा जिज्‍जी को सालगिरह की बधाईयां और मुलाक़ात की याद।

कई बार कुछ काम मुल्‍तवी होते जाते हैं। कुछ यादें लिखी ही नहीं जातीं।
ऐसा ही हुआ शुभ्रा जिज्‍जी के घर जाने की यादों के बारे में लिखते हुए।

गए तो थे दिसंबर 2015 में पर। लिखने का मौक़ा आज आया है।
आज इसलिए क्‍योंकि आज हमारी शुभ्रा जिज्‍जी अपना जन्‍मदिन मना रही हैं।
तकरीबन बचपन की बात है, आकाशवाणी के समाचार वाचकों को सुनते थे, तो उनमें शुुभ्रा जिज्‍जी भी शामिल थीं। हम उन सबकी नकल किया करते थे। और उनकी कल्‍पनाएं करते थे कि वो ऐसे दिखते होंगे, वैसे दिखते होंगे। न्‍यूज़ रीडिंंग की पूरी प्रक्रिया के बारेे में भी सोचते थे। और ये सपना भी देखते थे कि अगर आगे चलकर यही काम करने मिलेे, तो मज़ा आ जाए। बहरहाल...आगे चलकर रेडियो में जब कैजुएल कॉम्‍पेयर का काम करने मिला, तो लगा कि वाह, क्‍या जगह है ये। और फिर जिंदगी विविध भारती में ले आई। शुभ्रा जी से हमें फेसबुक ने ही मिलवाया। और फिर वो हमारी जिज्‍जी बन गयीं। फोन पर बातें हुईं। चैट-मैसेज सब होते रहे। ऐसा कभी लगा ही नहीं कि उनसे मुलाक़ात नहीं हुई है। पहले ब्‍लॉगिंग और बाद में फेसबुक से ऐसे कई अज़ीज़ मिले हैं जिनसे मुलाक़ातें ना हुईं हों या कम हुईं हों पर इससे नाते की गहराई कम नहीं होती। कमाल की है ना ये वर्चुअल दुनिया।

दिसंबर में जब एक आयोजन में दिल्‍ली जाने का मौक़ा आया तो सभी इष्‍ट-मित्रों को ख़बर कर दी गयी कि हम आ रहे हैं। आयोजन की व्‍यस्‍तताएं ऐसी थीं कि लग रहा था ग्रेटर नोएडा जाना हो नहीं आएगा। पर ऐसे ही मौक़े पर फोन पर बातों के दौरान जिज्‍जी ने एक ऐसा शेर दे मारा कि हम पूरी तरह लाजवाब हो गए। कुछ ना सूझा।

ऐसे में प्रिय मित्र आशीष, जो हमें अगवा करके अपने घर ले गया था, उससे कहा, भाई चलो ज़रा तुम्‍हें एक बेमिसाल शख्सियत से मिलवाया जाए। और इस तरह हमारा सफर शुरू हुआ। ग्रेटर नोएडा के प्रसार कुंज की छटा ही कुछ और है। पहुंचते ही जैसे अजीब-सा सुकून मिला। और फिर टॉप फ्लोर का नज़ारा ही और था। फ़ेसबुक के ज़रिए हम समेत बहुत सारे लोग जानते हैं कि शुभ्रा जिज्‍जी को बाग़वानी का शौक़ है। तो पहुंचते ही जिज्‍जी ने दिखलाया अपना बग़ीचा। जो टैरेस पर है। और कमाल की बात ये है कि जिज्‍जी ने बड़े इनोवेटिव तरीक़े आज़माए हैं बाग़वानी के लिए। जैसे ये हैं टूटे हुए बेसिन जिन्‍हें कहीं पड़ा देखकर जिज्‍जी नेे अपनी छत पर मंगवा लिया। और देखिए, इनका इस्‍तेमाल। 



इसके बाद ज़रा ये देखिए। दिए में उगता पौधा।
ये सब कोई बहुत ही रचनात्‍मक व्‍यक्ति ही कर सकता है। जिज्‍जी इन पौधों को अपनी जान से ज्‍यादा चाहती हैं। बड़े चहकते हुए हमें जिज्‍जी ने बताया कि किस तरह वो पौधे जमा करती हैं। कैसे इनकी परवरिश करती हैं वग़ैरह।

आशीष हमारे बचपन के दोस्‍त हैं। वो साथ गए थेे और पुराने बाग़वान रह चुके हैं। सागर में उनके घर पर खूब हरा-भरा बग़ीचा हुआ करता था। बस शास्‍त्राार्थ शुरू हो गया बाग़वानी का। जिज्‍जी आशीष और बीच बीच में हम। हमने देखा कि किसी चीज़ को जिज्‍जी ने बख्‍शा नहीं है। ये देखिए शीशियां।

और यहां शंख में उगा पौधा। जाहिर है कि ये पौधा भी ओंंकार का नाद ही करता होगा भले हम सुन ना सकें। और इसे नाज़ से पाल रही जिज्‍जी को वो नाद ज़रूर सु‍नाई देता होगा।



यहां कुछ कॉफी मग हैं। और इनमें उगते पौधे हैं। जिज्‍जी ने हमें हर पौधे के बारे में बताया। पर बातें केवल पौधों की तो हो नहीं सकतीं। बातें तो संगीत, रेडियो, साहित्‍य जाने किस किस विषय पर चलती रहीं।


ये कोना हम लोगों को बहुत पसंद आया। ये जिज्‍जी की स्‍टडी की खिड़की है। इसकी हरियाली देखिए ज़रा। 'जादू' हमारे संग गये थे। ममता किसी वजह से जा नहीं सकीं। बस 'जादू' और जिज्‍जी की बातचीत चल पड़ी creepers, crawlers के बारे में। लताओं के बारे में। 



यहां मौक़ा मिला हमें, किचन में कॉफी बनाती जिज्‍जी की तस्‍वीर खींचने का। बातें तो यहां भी चलती ही रहीं। 



आशीष पढ़ाकू हैं, इसलिए तो बचपन में हम जुड़े थे। जिज्‍जी की लाइब्रेरी देखी तो बस जुट पड़े हम दोनों। कमाल का संग्रह है ये। हमने चुपके से आशीष की ये छबि क़ैद कर ली।


जादू और जिज्‍जी की भी गहरी छनती है। जब जादू को जिज्‍जी ने केक खाने को दिया, तो वो हमारी इजाज़त चाहते थे, जादू को सर्दी जुकाम था। हमने सोचा कहां केक खायेंगे ये। पर जिज्‍जी के पास तो हर मर्ज़ का उपाय है ना। उन्‍होंने जादू को केक दिया। और उसके बाद दी एक लौंग ज़बर्दस्‍ती। इसके बाद मुूंबई लौटकर जादू मम्‍मा से केक मांगते और फिर लौंंग मांगते। उन्‍हें पता था कि केक के बाद लौंग खायें तो कुछ नहीं होता। जादू की मम्‍मा को इस नुस्‍खे से बड़ा मज़ा आता। 



और ये आशीष ने ली जिज्‍जी और भैया की यादगार तस्‍वीर।


यहां आशीष की मांग पर जिज्‍जी पान लगा रही हैं और 'जादू' जिज्ञासावश देख रहे हैं। 



और यहां बनारस का पान खाई के आशीष की अकल का ताला खुल गया है। उसके बाद आशीष काफी सुधरे हुए से लगते हैं। ज़रा इतें-उतें किए, तो फिर बनारसी पान खिलाना पड़ेगा इनको।


ये है जिज्‍जी का पानदान।

जिज्‍जी के घर जाकर और उनसे मिलकर ऐसा लगा ही नहीं कि ये पहली मुलाक़ात थी।
इतनी हंसोड़ जिज्‍जी। इतनी ज्ञानी जिज्‍जी। किसी भी विषय पर बात शुरू कर लो।
किसी भी मुद्दे पर बहस कर लो। गानों से लेकर संस्‍कृत तक। पौधों से लेकर दवा तक। इतिहास से लेकर राजनीति और रेडियो तक। ऐसी जिज्‍जी से कुछ मिनिट मिलकर लगा युगों के लिए मिल लिए। वो कहती रहीं कि अगली बार ममता समेत आना और यहीं रहना ताकि जमकर बातें हो सकें। गाना-बजाना भी हो। इतनी बातें हुईं कि यहां सब लिखना तक नहीं हो सका।

ऐसी खुशमिज़ाज, जिंदादिल, बेमिसाल, कड़क शुभ्रा जिज्‍जी आज अपना जन्‍मदिन मना रही हैं। छोटे भाई और उसके परिवार की तरफ से उन्‍हें असंख्‍य बधाईयां। और साथ ही ये वीडियो उनके लिए।



तरंग © 2008. Template by Dicas Blogger.

HOME